बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ निबंध Beti Bachao Beti Padhao Yojana Essay in Hindi@2022

Beti Bachao Beti Padhao Yojana प्रिय स्टूडेंट आज के इस निबंध के लेख में बहुत ही संवेदनशील सामाजिक विषय के बारे में बताने जा रहे है बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान इस पोस्ट में हमने बहुत ही विस्तार से बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ निबंध Beti Bachao Beti Yojana Essay पर हमने एक निबंध लेख तैयार किया है। यह एक ऐसा समाजिक सोच है जो आज से नहीं बल्कि लम्बे समय से बेटियों को पुरुष प्रधान समाज के आगे झुकती आई है। 

Beti Bachao Beti Padhao Yojana 

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ यह एक समाजिक मुद्दा है इसलिए यह निबंध परीक्षा के दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है चाहे वो कक्षा 6,7,8,9,10,11,12 के छात्रों के या फिर ग्रेजुेएश में पढ़ रहे स्टूडेंट के लिए तथा प्रतियोगिता परीक्षा के दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है जैसे-SSC, UPSC, Railway, 

Beti Bachao Beti Padhao Yojana
Beti Bachao Beti Padhao Yojana

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का क्या अर्थ है Beti Bachao Beti Padhao Meaning

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ Beti Bachao Beti Padhao एक ऐसी योजना है, जिसका अर्थ ‘कन्या शिशु को बचाओ और इन्हें शिक्षित करो’ है। इस योजना को भारत सरकार के द्वारा कन्या शिशु के लिए जागरूकता का निर्माण करने के लिए और महिला कल्याण में सुधार करने के लिए शुरू किया गया था।

बेटी बचाव बेटी पढ़ाओ निबंध Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi

Beti Bachao Beti Padhao लम्बे समय से ही बेटियां पुरुसत्तात्मक समाज की मानसिकता का शिकार हो रही हैं। उन्हें उन बुनियादी लाभों से वंचित कर दिया गया जो मानसिक और शारीरिक रूप से एक व्यक्ति के रूप में विकसित होने में मदद करेंगे। शिक्षा किसी व्यक्ति की क्षमता को पोषित करने और उसे ऐसे कौशल में बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है जिसे दुनिया को बदलने के लिए एक हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। 

हालाँकि, एक यह हमारे रूप से उपेक्षा की जाती है क्योंकि लड़कियों को पैदा होने से पहले ही कई तरह के अत्याचारों का शिकार होना पड़ता है और पैदा होने के बाद, वे इस तथ्य से अनजान हैं कि वे एक स्त्री द्वेषी समाज में प्रवेश कर चुकी हैं जो पुरुष कट्टरपंथियों से भरा है।

Read more:-निबंध कैसे लिखें। How to write essay

Beti Bachao Beti Padhao Yojana का उद्देश्य 

भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री, नरेंद्र मोदी ने 22 जनवरी, 2015 को beti bachao beti padhao yojana शुरू की, ताकि जागरूकता पैदा की जा सके और महिलाओं के लिए कल्याणकारी योजनाओं की दक्षता में सुधार किया जा सके और देश में गिरते लिंग अनुपात को संतुलित किया जा सके। 

महिला समाख्या कार्यक्रम का उद्देश्य राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 1986 के उद्देश्यों का पालन करते हुए शिक्षा के माध्यम से ग्रामीण महिलाओं को सशक्त बनाना है। इसी तरह, कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय योजना भी लड़कियों को प्राथमिक स्तर की शिक्षा प्रदान करने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में काम करती है। इसके अलावा, प्राथमिक स्तर पर लड़कियों के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम और साक्षर भारत मिशन का उद्देश्य महिला निरक्षरता के स्तर को नीचे लाना है। 

Read more:-वोकल फॉर लोकल क्या है| Vocal for Local essay hindi 

लड़की को शिक्षित करने का सवाल तभी उठता है जब उसे पैदा होने दिया जाए। वर्ष 2016 के लिंगानुपात का अनुमान है कि प्रति 1000 पुरुषों पर 944 महिलाएं हैं। भले ही देश ने ऊपर की ओर रुझान का अनुभव किया है, फिर भी बहुत कुछ हासिल करने की जरूरत है

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ यूनिसेफ की एक रिपोर्ट

यूनिसेफ (UNICEF) की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में सुनियोजित लिंगभेद के कारण भारत की जनसंख्या से लगभग 5 करोड़ लड़कियाँ गायब है। संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि भारत में अवैध रूप से अनुमानित तौर पर प्रतिदिन 2000 अजन्मी कन्याओं का गर्भपात किया जाता है। 

अत: संयुक्त राष्ट्र ने अपनी रिपोर्ट में यह बताया है कि भारत में बढ़ती कन्या भ्रूण न्या जनसंख्या से जुड़े संकट उत्पन्न कर सकती है, जिससे लिंगानुपात के और भी असमान होने की सम्भावना बनेगी।

बेटी बचाव बेटी पढ़ाओ योजना में समस्या

कन्या भ्रूण हत्या की समस्या

कन्या भ्रूण हत्या की प्रथाएं बढ़ने के साथ ही आदिम सोच अभी भी कायम है। यहां तक ​​कि सरकार द्वारा प्रसव पूर्व लिंग निर्धारण की प्रथा पर प्रतिबंध लगाने के बाद भी चयनात्मक गर्भपात की प्रथा बंद नहीं हुई है। लड़कियों को खुद को साबित करने का समान मौका नहीं दिया जाता है। 

एक लड़की का अपनी माँ के गर्भ से एक जिम्मेदार और स्वतंत्र वयस्क बनने की यात्रा कठिनाइयों और बाधाओं से भरी होती है। लड़कियों को अक्सर माता-पिता के लिए एक दायित्व के रूप में देखा जाता है क्योंकि यह माना जाता है कि शादी के बाद, वह उन्हें आर्थिक रूप से योगदान नहीं देगी। यहां लड़कियों को आदिम विचार प्रक्रिया और सामाजिक घटनाओं के अत्याचार से बचाने की आवश्यकता थी।

Read more:-single use plastic essay

कुपोषित की समस्या

इसके अलावा, लड़कियां अक्सर कुपोषित होती हैं, खासकर गरीब घरों में जहां माता-पिता चुनते हैं कि कौन बेहतर पोषण पाने का हकदार है। वही लड़कियों अक्सर भेदभाव की शिकार होती हैं। भारत में दुनिया का सबसे बड़ा जेंडर सर्वाइवल गैप है। 1 से 5 साल की उम्र में लड़कों की तुलना में भारतीय लड़कियों के मरने की संभावना 61% अधिक है। इसलिए, मरने वाले प्रत्येक पांच लड़कों के लिए, 8 लड़कियों की मृत्यु होती है। 

रिपोर्ट में इस बढ़ते लिंग अंतर का कारण लड़कियों को लड़कों की तुलना में बहुत कम स्वास्थ्य सेवा प्राप्त करना है। लड़कियों को अक्सर स्वास्थ्य सुविधाओं में लाया जाता है जब बीमारी एक उन्नत चरण में होती है। 

उन्हें पुरुष बच्चों की तुलना में कम योग्य डॉक्टरों के पास भी ले जाया जाता है। यह रवैया समाज में मौजूद लैंगिक अंतर को स्पष्ट रूप से उजागर करता है। यहां वह परिवार, समाज और राष्ट्र को प्रगतिशील बनाने के लिए संरक्षण के लिए पुरुष बच्चे से अधिक की हकदार है।

मानसिक और शारीरिक उत्पीड़न

भले ही बेटियों को कन्या भ्रूण हत्या का शिकार न हो, लेकिन बड़ी होने के साथ-साथ उसे बहुत सी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है जैसे बहुविवाह, बाल विवाह, तस्करी, पुरुष विरासत, सम्मान अपराध और घरेलू हिंसा जैसी प्रथाएं अभी भी समाज में मौजूद हैं। दहेज से संबंधित मौतों में वृद्धि हुई है क्योंकि महिलाओं को उनके ससुराल वालों द्वारा मानसिक और शारीरिक उत्पीड़न की एक बढ़ी हुई मात्रा के अधीन किया जाता है ताकि वे अधिक से अधिक धन उगाही कर सकें। 

अशिक्षित रखना 

हालाँकि, बेटियों के सामने सबसे बड़ी बाधाओं में से एक यह है कि उन्हें शिक्षित होने के अधिकार से वंचित किया जाता है। यह लंबे समय में उसके विकास में बाधा डालने वाले सबसे बड़े कारकों में से एक है। कई सामाजिक-सांस्कृतिक कारक जैसे लोगों के जीवन के तरीके, उनके दृष्टिकोण, विश्वास और मूल्य प्रणाली यह निर्धारित करते हैं कि एक लड़की को शिक्षित होने की अनुमति है या नहीं।

Beti Bachao Beti Padhao Yojana

 

भारत में बेटीयों को शिक्षित करने के महत्व को समझना महत्वपूर्ण हो गया है। शिक्षा के अधिकार को मौलिक अधिकार के रूप में समझा जाता है, अर्थात यह न्यायसंगत है और कोई व्यक्ति अदालतों का रुख कर सकता है यदि ये उल्लंघन कर रहे हैं। लड़कियों को शिक्षित करने से सामान्य तौर पर जीवन की बेहतर गुणवत्ता सुनिश्चित होगी। 

Beti Bachao Beti Padhao के लिए उपाय

शिक्षा के माध्यम से, वह अपने अधिकारों के बारे में अधिक जागरूक होगी जिससे उसके लिए यह पहचानना आसान हो जाएगा क्योंकि शिक्षा ही एक मात्र  ऐसा मार्ग बेटियों को  उनके अधिकारों का ज्ञान होगा कि कब उनके अधिकारों का उल्लंघन कब हो रहा है। यदि हम स्त्री शिक्षा के क्षेत्र में व्यापक दृष्टिकोण अपनाएं तो महिलाओं के जीवन या स्थिति में काफी सुधार होगा।

Read more:-New India-2022: न्यू इण्डिया-2022 निबन्ध

शिक्षा महिलाओं को जीवन में अधिक आत्मविश्वासी और स्वतंत्र बनाएगी क्योंकि वे अपनी योग्यता का उपयोग जीविकोपार्जन के लिए कर सकती हैं। समाज में महिलाओं की स्थिति को बदलने और सामाजिक-आर्थिक पदानुक्रम को दूर करने का एकमात्र तरीका आर्थिक सशक्तिकरण है। यह महिलाओं और लड़कियों को हमारे देश के आर्थिक विकास और समृद्धि में डॉक्टर, वकील, इंजीनियर, अंतरिक्ष यात्री, शिक्षक, प्रशासक, व्यवसायी या अपनी पसंद के किसी अन्य पेशे के माध्यम से सक्रिय भूमिका निभाने में सक्षम बनाएगा।

इसके अलावा शिक्षा महिलाओं और लड़कियों को स्वास्थ्य और स्वच्छता के महत्व के बारे में अधिक जागरूक बनाती है। स्वास्थ्य शिक्षा के माध्यम से महिलाएं एक स्वस्थ जीवन शैली का नेतृत्व करेंगी और अपनी और अपने बच्चों की बेहतर देखभाल करने में सक्षम होंगी। महिलाओं को भी गरीबी उन्मूलन के कार्य में समान रूप से भाग लेने की आवश्यकता है। यह शिक्षित महिलाओं की ओर से एक बड़े योगदान की मांग करेगा।

beti bachao beti padhao yojana हेतु सरकार के प्रयास

Beti Bachao Beti Padhao अभियान के अन्तर्गत स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मन्त्रालय भ्रूण के लिंग परीक्षण को रोकने के लिए बने पूर्व गर्भाधान और प्रसव पूर्व निदान तकनीक अधिनियम (पीसीपीएनडीटी एक्ट), 1994 को लागू करने और उस पर निगाह रखने का काम कर रहा है। इसके साथ ही मन्त्रालय स्थानिक कार्यों की गति बढ़ाने, जन्म का रजिस्ट्रेशन कराने के साथ इन पर नज़र रखने के लिए मॉनिटरिंग समितियाँ बनाई गई। 

इसी अभियान में मानव संसाधन विकास मन्त्रालय बालिकाओं के स्कूल में नामांकन, बालिकाओं के स्कूल छोड़ने में गिरावट लाने, स्कूलों में बालिकाओं और बालकों के बीच सहज और समानता का सम्बन्ध बनाने, शिक्षा के अधिकार कानून को कड़ाई से लागू करने और बालिकाओं के लिए बुनियादी शौचालय बनाने का काम कर रहा है।

वर्तमान में, इस बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान का व्यापक प्रभाव हुआ है। इससे समाज में लड़कियों जन्म और उनकी शिक्षा को लेकर सोच में बदलाव आया है। अत: यही कारण है कि अब महिलाओं में साक्षरता की दर भी बढ़ रही है।

इस योजना का ही प्रभाव है कि अब स्कूलों में बालिकाओं के नामांकन में बढ़ोतरी देखी जा रही है। लड़के तथा लड़कियों में भेदभाव कम होते दिख रहे हैं। साथ ही लड़कियों की भ्रूण हत्या में भी पूर्व की तुलना में कमी पाई गई है।

Read more:-आत्मनिर्भर भारत अभियान

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के सफल क्रियान्वयन हेतु अपनाई जाने वाली रणनीति 

  1. बेटियों के जन्म पर खुशी व उत्सव मनाना।
  2. अपनी बेटियों पर गर्व करना तथा बेटियों के बारे में पराया धन की मानसिकता को दूर करना।
  3. लड़के और लड़कियों के बीच समानता को बढ़ावा देना बालविवाह दहेज प्रथा का दृढता से विरोध करना।
  4. बेटियों का स्कूल में दाखिला करवाना और उसकी पढ़ाई को सुचारू रखना।
  5. पुरुषों और लड़कों की रूढ़िवादी सोच को चुनौती देना।
  6. लिंग चयन की किसी भी घटना की सूचना देना।
  7. अपने आस-पड़ोस को महिलाओं में लड़कियों के लिए सुरक्षित में हिंसामुक्त रखना और उसके विरुद्ध आवाज उठाना। महिलाओं के सम्पत्ति के अधिकार को समर्थन देना आदि।

Conclusion

यह कहा जा सकता है बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ   Beti Bachao Beti Padhao Yojana या बेटी को बचाने एवं उसे पढ़ा-लिखाकर योग्य बनाने के लिए जब तक हम संवेदनशील नहीं होंगे, तब तक हम अपना ही नहीं, बल्कि आने वाली सदियों तक पीढ़ी-दर-पीढ़ी एक भयानक संकट को निमन्त्रण देंगे। बेटियाँ देश का भविष्य हैं।

इतिहास साक्षी है कि जब भी स्त्रियों को अवसर मिले हैं, उन्होंने अपनी उपलब्धियों के कीर्तिमान स्थापित किए हैं। आज शिक्षा, स्वास्थ्य, तकनीकी, रक्षा, राजनीति आदि क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण व बड़ी संख्या में अपनी भूमिका निभा रही हैं। 

भारतीय मूल की प्रथम महिला अन्तरिक्ष यात्री कल्पना चावला हो या साइना नेहवाल , इन्दिरा नूई हो या सुनीता विलियम्स, सभी ने अपने-अपने क्षेत्रों में भारत का नाम गौरवान्वित किया है, लेकिन यह सब तभी सम्भव हो सका, जब उन्हें बचाया एवं पढ़ाया गया।

अगर आपको किसी प्रकार से इस लेख में कोई गलती हो तो हमें अवश्य बताए या ये आपके लिए उपयोगी साबित हुआ अगर आपको किसी और विषय पर जानकारी चाहिए तो आप हमे अपनी राय comments के द्वारा अवश्य दे। इस पोस्ट आगे जरूर share करे इस तरह की जानकारी के लिए आप हमारे facebook page को follow जरूर करे। 

What’s group link:- join now

Teligram link:- join now

Read more

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति-Essay on New Education Policy in Hindi

Sharing The Post:

नमस्कार दोस्तों, मैं अमजद अली, Achiverce Information का Author हूँ. Education की बात करूँ तो मैंने Graduate B.A Program Delhi University से किया हूँ और तकनीकी शिक्षा की बात करे तो मैने Information Technology (I.T) Web development का भी ज्ञान लिया है मुझे नयी नयी Technology से सम्बंधित चीज़ों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. इसलिए मैने इस Blog को दुसरो को तकनीक और शिक्षा से जुड़े जानकारी देने के लिए बनाया है मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे

Leave a Comment